Women Reservation Bill Latest Update – जानिए क्या है महिला आरक्षण बिल

Women Reservation Bill Latest Update:- भारत सरकार ने Women Reservation Bill Latest Update के नाम से एक नया बिल पेश किया है। महिला आरक्षण विधेयक पर लोकसभा और राज्यसभा में 22 साल से बहस हो रही थी। 1996 में, यह उपाय पेश किया गया था। तब से लेकर अब तक राज्यसभा और विधानसभा में इस बिल पर कई बार सुनवाई हो चुकी है, लेकिन एक खास राजनीतिक समूह के विरोध के कारण यह पारित नहीं हो सका है। 

महिला आरक्षण विधेयक कहता है कि विधान सभा और प्रतिनिधि सभा में महिलाओं के लिए 33% आरक्षण है। भारतीय गृह मंत्री अमित शाह ने हाल ही में इस मुद्दे को फिर से उठाया, और तब से, लोग महिला आरक्षण मुद्दे पर नवीनतम जानकारी के लिए उत्सुक हैं। यदि आप महिला आरक्षण विधेयक के बारे में जानना चाहते हैं तो आपको यह लेख पूरा पढ़ना होगा। हम आज आपको इस लेख के माध्यम से Women Reservation Bill Latest Update के बारे में विवरण प्रस्तुत करेंगे।

Women Reservation Bill Latest Update 

19 सितंबर 2024 को भारत की केंद्र सरकार ने नई भारतीय संसद में पहला कानून महिला आरक्षण कानून पेश किया। कानून मंत्री अर्जुन राम मेघव ने महिलाओं को लोकसभा और राज्यसभा की विधानसभा में 33% सीटें देने का सुझाव दिया है। यह विधान प्रस्तुत किया जा चुका है। इस बिल को नई संसद के अधिकांश सदस्यों के साथ-साथ कांग्रेस पार्टी की सोनिया गांधी का भी समर्थन मिला है।

Women Reservation Bill Latest Update

OSSSC Nursing Officer Recruitment 2024 Apply Online for 7483 Posts at osssc.gov.in

भारत के गृहमंत्री अमित शाह ने महिला आरक्षण बिल पेश करते हुए कहा, कि महिला आरक्षण बिल पारित होने से महिलाओं के नेतृत्व में विकास होगा। संसद के समक्ष बोलते हुए अमित शाह जी ने कहा कि महिला आरक्षण विधेयक देश के कई राजनीतिक दलों के लिए एक राजनीतिक मुद्दा हो सकता है। लेकिन भारतीय जनता पार्टी के लिए यह संस्कृति का विषय है। Women Reservation Bill Latest Update को नए संसद भवन में मौजूद राजनीतिक दल के नेताओं की मंजूरी मिल गई है 

Overview of Women Reservation Bill Latest Update 

Article Women Reservation Bill Latest Update
Category Government Plan
Bill NameWomen Reservation Bill Latest Update
Passed by Indian Government 
Bill Present Raj Shabha or lok Sabha 
Year2024
Women Reservation Bill Latest Update

Details of Women Reservation Bill 

महिलाओं की सुरक्षा, सम्मान और भागीदारी को बढ़ावा देने वाले इस विधेयक को हमारी सरकार का समर्थन प्राप्त है। अमित शाह के मुताबिक प्रधानमंत्री जनधन खातों में 70 फीसदी खाते महिलाओं के पास हैं। देश की महिलाओं को अधिक प्रभाव देने के लिए इस समय महिला आरक्षण बिल लागू किया जा रहा है। इस बिल की बदौलत महिलाएं अदालती प्रक्रियाओं में अधिक भाग लेंगी।

Women Reservation Bill Latest Update

Mahila Arakshan Bill News 

पहली बार इस बिल को सन 1996 में पारित किया गया था। उस वक्त बहुत से राजनीतिक दलों ने महिलाओं की भागीदारी राजनीति में स्वीकार नहीं की थी उनका मन्ना था कि इससे महिलाओं की राजनीति में भागीदारी बढ़ेगी जो उनके लिए हानिकारक होगा। और राज्यसभा और विधानसभा में ये बिल 22 साल से रुका हुआ था लेकिन अब श्री नरेंद्र मोदी ने इस बिल पर दोबारा बात की है।  Women Reservation Bill Latest Update के बारे में और अधिक जाने। 

Women Reservation Bill Information in Hindi 

महिला आरक्षण विधेयक पहली बार सालो पहले लोकसभा और राज्यसभा में पेश किया गया था और महिला आरक्षण विधेयक शुरू में 12 सितंबर, 1996 को राज्यसभा में प्रस्तावित किया गया था, लेकिन समर्थन नहीं मिलने के कारण एचडी देवड़ा प्रशासन ने इसे वापस ले लिया। इसके बाद इस बिल को बार-बार राज्यसभा और लोकसभा दोनों में पेश किया गया। इसे दूसरी बार वर्ष 2000 में, तीसरी बार वर्ष 2005 में और चौथी बार वर्ष 2010 में राज्यसभा में पेश किया गया।

Nari Vandan Adhiniyam 2024 

यह बिल सन 2010 में पारित हुआ था। लेकिन लोक सभा ने इस बिल को पारित नहीं किया। सांसद और विधानसभा द्वारा महिला आरक्षण बिल में 33 फ़ीसदी सीटे महिलाओं को दी जाएगी। महिला आरक्षण बिल के तहत एसटी एससी वर्ग में एक तिहाई सीटें यानी 33 फीसदी सीटें महिलाओं को मिलेंगी। 2010 में जब इसे राज्यसभा द्वारा अधिनियमित किया गया तो समाजवादी पार्टी और राष्ट्रीय जनता दल ने इसका जमकर विरोध किया। महिला आरक्षण विधेयक को 22 साल बाद नए संसद भवन में फिर से पेश किया गया और इसे मंजूरी भी दे दी गई।

महिला आरक्षण विधेयक पहली बार कब प्रस्तुत किया गया था?

12 सितंबर 1996 को पहली बार महिला आरक्षण विधेयक पेश किया गया था।

महिला आरक्षण विधेयक प्रारंभ में किस सदन द्वारा अस्वीकार किया गया था?

राज्यसभा ने 2010 में महिला आरक्षण लागू करने को मंजूरी दे दी, लेकिन लोकसभा ने इसका विरोध किया।

Leave a Comment